क्या आएगा कोई Shaktiman तुम्हे बचाने? किलविश का Antibiotics

Non-veg खाने वालों सम्राज किलविश के Antibiotics से अब कैसे बच पाओगे?

SHAKTIMAN
जो लोग Shaktiman के बारे में जानते होंगे वह तो समझ गए होंगे की क्या है सम्राज किलविश का Antibiotics बाकी जो नहीं जानते उन्हें हम बता दें। सम्राज किलविश एक इंसानियत की दुनिया का विलन था जो कि सिर्फ मुंबई में हमला करता था, पर ये सम्राज किलविश के Antibiotics पूरी दुनिया में हमला कर रहे हैं। सम्राज किलविश का बेसिक ड्रीम जो था वह ये था की उसे पूरे दुनिया में अंधकार फैलाकर बुराई स्थापित करना था, जिसके लिए वह अलग अलग नुमाइंदों को बनाता था जो की मनुष्य नामक प्रजाति और प्रकृति पर हमला करते थे जिन्हे Shaktiman पूरी शिद्दत के साथ रोकता था। । तो मसला भी ऐसा ही कुछ है, आइये पढ़िए आगे की राम कथा।
 सेहत के प्रति सजग रहने वाले लोग अक्सर अपनी Diet प्लान को follow करते है। और अगर आप मासांहारी खाने के शौकीन हो तो chicken तो आपकी डाइट में ज़रुर शामिल होता होगा। हालांकि मासांहार को धर्म के नाम पर हमारे नेता लोग खूब इस्तेमाल करते है। लेकिन यहाँ पर बात सिर्फ और सिर्फ आपकी सेहत की होगी, जिसमें कि मीट एक अहम स्थान रखता है। भारत में खाने योग्य पशु जैसे की मुर्गा, बकरा इत्यादि की सेहत से खिलवाड़ एक बड़े स्तर पर हो रहा है, और जब हम इन को मीट के रूप में खाते है तो इसका सीधा असर हमारी सेहत पर होता है।
Antibiotics
आईये जानते है ये कैसे होता है:
  • जानवरों को स्वस्थ बनाये रखने के लिए उन्हें एक प्रकार का एंटीबायोटिक दिया जाता है ताकि वो बिमारियों से लड़ सके। किसान ऐसा इसलिए करते है ताकि उन्हें पोषण ना देना पड़े और साफ़ सफ़ाई में भी कोई दिक्कत ना हो। लेकिन भविष्य में इसके बहुत दुष्परिणाम साबित हो सकते है।
  • एक अध्ययन के अनुसार 2030 तक भारत सबसे अधिक एंटोबिओटिक इस्तेमाल करने वाला देश हो जायेगा।
  • 2013 में ऐसे जानवरों के लिए इस्तेमाल होने वाला एंटीबायोटिक 2,633 tons था।
  • 2030 तक इसके 4,796 tons, यानि कि 82% की वृद्धि हो जाने की संभावना जताई जा रही है।
  • 2004-11 के बीच में ग्रामीण क्षेत्रों में mutton, beef, pork और chicken का सेवन दुगने से अधिक हो गया है।
  • पंजाब में दो तिहाई poultry (सबसे अधिक consume होने वाला मीट ) किसान antibiotics का इस्तेमाल करता है।
Antibiotics food
Quinolone की
Antimicrobials के रूप में Tetracyclines और fluoroquinolone का काफी हद तक प्रयोग हो रहा है, जो की मनुष्यों में होने वाली बीमारी हैज़ा, मलेरिया, urinary infections को ठीक करने के लिए इस्तेमाल होता है। इन सब Antibiotics में Quinolone का प्रयोग सबसे अधिकतम तेजी से बढ़ा है जो कि चिंताजनक है। इन Antibiotics का अधिक इस्तेमाल करने की बड़ी वजह है इनका सस्ते दामों पर उपलब्ध होना और भैय्या अगर आप ये सोच रहे है की मीट का सेवन कम करने से शायद कुछ फर्क पड़ेगा, तो हम आपको बता दें की घंटा फरक नहीं पड़ेगा।अब जरूरत है सही कदम उठाने की, अब ऎसी कोई गोटी बैठाओ जिस से इनकी बिक्री कम की जा सके या फिर इसकी मात्रा तय की जा सके, जैसा कि स्वीडेन, डेनमार्क जैसे देशों में किया जा चूका है।
और भैय्या आप लोग जिसके दिन रात गुणगान गाते हो उस अमेरिका में इसका इस्तेमाल बिलकुल रोक दिया गया है।
भारत में भी किसी Shaktiman को इसमें तुरंत हस्तक्षेप करने की ज़रूरत है।
Source: India spend

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here